सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के सरल उपाय, तनाव कम करने के उपाय

जय हिंद दोस्तो,दोस्तों बहुत सारे लोग आजकल अपने पैसो और अन्य निजी समस्याओ के कारण डिप्रेसन के शिकार हो जाते है। आज हम बात करेंगे कि तनाव को दूर कैसे करे और क्या उपाय है जिनसे हम अपने मानसिक तनाव को दूर कर सकते हैं। चलिए जानते है इसके बारे में - स्ट्रेस क्या है दोस्तों जैसे आप कोई काम कर रहे हो तो आप सोचते है कि क्या ये काम जो मैं कर रहा हूँँ वो सफल होगा या जो मैं कर रहा हूं वो सही है, यही सब जब हम ज्यादा सोचते हैं तो यही स्ट्रेस बन जाता है, लेकिन अगर आपको अपने ऊपर पूरा विश्वाश हो तो क्या कोई स्ट्रेस नाम की चीज आपको छू पाएगी।  जैसा कि दोस्तो गीता में भी यही लिखा है कि, कर्म करो फल की चिंता मत करो । वैसे ही आप जो करने जा रहे है उसे आप अच्छा है करेंगे, ये सोच के करिये तो आपका स्ट्रेस होगा है नही। स्ट्रेस दूर करने के उपाय  दोस्तों तनाव दूर करने का पहला उपाय है - (1) सेल्फ कॉन्फिडेंस दोस्तों बहुत सारे लोग सोंचते कि टेंशन बहुत है क्या करें? मै एक बात कहूँँगा जब भी आप ये सोचोगे कि जो भी मैं करने जा रहा हूँ वो करने से कही कोई समस्या न हो जाये। अगर आपको पूरा विश्वाश है
हाल की पोस्ट

एनीमिया के लक्षण,कारण व इससे बचने के घरेलू उपाय। Anemia causes, symptoms and home remedies for anemia

दोस्तों बहुत सारे लोग जो अपनी खून की कमी के कारण एनीमिया के शिकार हो जाते है। इसमें ज्यादातर संख्या गर्भवती महिलाओं की है जो अपनी डाइट पर ध्यान नहीं देती है इसके कारण उनके शरीर में खून की कमी हो जाती है। दोस्तों आज हम बात करेंगे एनीमिया से बचने के घरेलू उपायों के बारे में- एनीमिया क्या होता है? जब हमारे शरीर में लौह तत्व यानि कि आयरन की कमी होती है तो आयरन की कमी के कारण ही हीमोग्लोबिन में भी कमी आ जाती है जिसके कारण एनीमिया नामक बीमारी हो जाती है।  आयरन हमारी बॉडी में लाल रुधिर कणिकाओं को बनाने का काम करता है और यह लाल रुधिर कणिकाएं हमारी बॉडी में हीमोग्लोबिन का निर्माण करती है जब बॉडी में आयरन की कमी हो जाती है तो हिमोग्लोबिन भी कम हो जाता है जिससे शरीर में ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में नहीं पहुंच पाती और ऑक्सीजन की भी कमी हो जाती है क्योंकि हीमोग्लोबिन फेफड़ों से ऑक्सीजन को लेकर ब्लड में पहुुँँचाता है। यही समस्या एनीमिया कहलाती है। एनीमिया के कारण एनीमिया कोई बीमारी नही है लेकिन यह कई बीमारियों का कारण बन सकती है। ज्यादातर यह जीवनशैली मे बदलाव और आहि सम्बन्धी

दांतो का पीलापन कैसे हटाए, दांतों को चमकाने के घरेलू उपाय how to get rid of yellow teeth

आजकल लोगों के गलत खानपान और दातों की देखभाल ना करने के कारण उनके दांतो में संक्रमण हो जाता है जिससे उनके दांत पीले हो जाते हैं यदि आप भी जानना चाहते हैं की दांतो का पीलापन कैसे हटाए तो आज हम इसी बारे में बात करेंगे- दांतों के पीलेपन का कारण (1) इनेमल का घिस जाना इनेमल दातों की सफेद परत होती है जब भी यह परत घिस जाती है या खराब हो जाती है तो उसके नीचे की परत जिसे डेंटिन(पीले रंग) कहते हैं वह दिखने लगती है। इसका कारण यह है कि हम बहुत ज्यादा जोर लगा कर ब्रश करते हैं। (2) खाने की चीजें सेब,आलू, अंडे, चाय,कॉफी और शराब यह सभी खाने-पीने की वस्तुएं आपके मुंह का pH लेवल बिगाड़ कर आपके दांतो को पीला कर देती हैं। (3) रोग-उपचार कुछ लोग उपचार करवाने के लिए विकिरण चिकित्सा जैसी स्थितियों से गुजरते हैं तो यह चीजें आपके दांतों में पीलापन ला सकती हैं। (4) फ्लोराइड का अधिक प्रयोग फ्लोराइड से भरे टूथपेस्ट को बहुत ज्यादा यूज करने से डेंटल फ्लोरोसिस हो सकता है। फ्लोरोसिस के कारण आपके दांतों में सफेद दाग आ जाते हैं और बाद में वह भूरे और पीले हो जाते हैं। (5) दवाएं कई दवाएं

जोड़ों के दर्द का घरेलू इलाज: home remedies for joint pain in hindi

जय हिंद दोस्तों, यदि आप अपने जोड़ों के दर्द से परेशान हैं और आपको बार-बार दवा लेने के बाद भी जोड़ों के दर्द से आराम नहीं मिल रहा है तो आप हमारे द्वारा बताए गए जोड़ों के दर्द के घरेलू उपाय को अपनाकर जरूर देखें इससे आपको शत प्रतिशत लाभ होगा तो चलिए जानते हैं इसके बारे में- क्या है जोड़ों का दर्द जोड़ों का दर्द जो कभी बुजुर्गों की बीमारी मानी जाती थी वह आज युवाओं को भी अपना शिकार बना रही है। आमतौर पर यह 50 साल के बाद होता है। हालांकि खराब लाइफ़स्टाइल की वजह से यह सभी लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। सामान्य तौर पर यह उम्र बढ़ने की वजह से शरीर के जोड़ घिस जाते हैं जिससे जोड़ों में दर्द होता रहता है। इसके कई कारण हो सकते हैं। इन कारणों के बारे में आइए जानते हैं- जोड़ों के दर्द के कारण (1) उम्र जोड़ों के दर्द का सबसे प्रमुख कारण उम्र होता है क्योंकि जोड़ों में उम्र के साथ-साथ टूट फूट के कारण जोड़ों के दर्द की समस्या हो जाती है। (2) मोटापा मोटापा भी जोड़ों के दर्द का एक मुख्य कारण होता है क्योंकि यदि आपका वजन संतुलित वजन से चार -पांच किलो भी ज्यादा है तो इसका भार

वजन बढ़ाने के घरेलू उपाय how to gain weight fast at home in hindi

हैलो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं वजन बढ़ाने के घरेलू उपायों के बारे में। आजकल बहुत सारे लोग अपने पतलेपन के कारण अपने आप को बहुत फिसड्डी समझने लगते हैं। इसके कारण इनके अंदर आत्मविश्वास की कमी हो जाती है। इस पतलेपन को दूर करना बहुत ही आसान है बस कुछ उपायों को अपनी आदत में डालकर अपना वजन बढ़ा सकते हैं। वजन क्यों नही बढ़ता है? आज के दिनों में जिस तरह से लोग अपने मोटापे से परेशान हैं उसी प्रकार से बहुत ज्यादा लोग अपने पतलेपन से भी बहुत चिंतित हैं। इस पतलेपन के कारण लोगों को अपने समाज में कई प्रकार की समस्याओं से गुजरना पड़ता है। आइए जानते हैं किन कारण से आपका वजन नहीं बढ़ता है- (1) ज्यादा वर्कआउट करना बहुत सारे लोगों का बहुत अधिक वर्कआउट करने के कारण वजन नहीं बढ़ता है क्योंकि वे अपनी क्षमता के हिसाब से एक्सरसाइज नहीं करते हैं बल्कि वे अपने शरीर को थका देते हैं जिससे अधिक कैलोरी बर्न हो जाती है और वजन नहीं बढ़ता है। (2) सही डाइट न होना जिन लोगों का वजन नहीं बढ़ता है या तो उनकी डाइट सही नहीं होती है या फिर उनकी डाइट में न्यूट्रिशन की कमी होती है। यदि आप अपने वजन

मस्सों को हटाने के घरेलू उपाय how to get rid of warts at home in hindi

यदि आप अपने शरीर के अनचाहे मस्सों से परेशान हैं तो आप आज हम मस्सों को हटाने के घरेलू उपाय के बारे मे बताने जा रहे हैं तो आइये इसके बारे मे विस्तार से जानते हैं। क्या होता है मस्सा आप जब भी कभी देखते हैं कि आपकी बाहर की जो स्किन है उसके ऊपर कुछ ओवरग्रोथ हो गयी है और जिसका तल चिकना या खुरदरा हो सकता है, इसे ही मस्सा या वॉर्ट्स कहते हैं। मस्से होने का कारण मस्सा( वॉर्ट्स) एक वायरल इंफेक्शन के कारण होता है जो कि एक वायरस के द्वारा फैलता है। इस वायरस का नाम ह्यूमन पैपिलोमा वायरस है और इसकी लगभग 100 जातियां होती हैं जो मस्से के इंफेक्शन को फैलाती हैं। मस्सों की समस्या युवावस्था में शुरू होती है यह 50% लोगों में अपने आप बिना ट्रीटमेंट के ठीक हो जाता है लेकिन कुछ लोगों में यह काफी समय बाद भी सही नहीं होता है तो आपको ट्रीटमेंट की आवश्यकता पड़ती है। सावधानियां (1) अपने कपड़े टॉवल जूते मोजे को किसी भी व्यक्ति के साथ शेयर न करें क्योंकि इससे मस्से का इंफेक्शन फैलने का खतरा होता है। (2) शेविंग करते समय विशेष साफ-सफाई का ध्यान रखें और बार-बार मस्सोंं को छूते हुए सेव ना करें

एसिडिटी को खत्म करने के 10 घरेलू नुस्खे acidity treatment in hindi

दोस्तों आजकल भाग दौड़ भरी जिंदगी में न तो अपने स्वास्थ्य की देखभाल कर पाते हैं और न ही अपने खान पान की। जिससे हम एसिडिटी जैसी समस्या के शिकार हो जाते हैं। इसलिए आज हम आपको एसिडिटी से बचने के 10 घरेलू नुस्खे बताएंगे जो बहुत ही उपयोगी हैं। क्या है एसिडिटी हमारा पाचन तंत्र खाए गए भोजन को पचाने के लिए पेट मे एसिड बनाता है जिसके कारण हमारा पाचन तंत्र नियंत्रण मे रहता है।यदि इस एसिड की मात्रा संतुलित रहती है तो हमारा पाचन तंत्र और पेट दोनों स्वस्थ रहते हैं और यदि एसिड की मात्रा ज्यादा हो जाती है तो यह एसिडिटी यानि कि अम्लता कहलाती है।इससे हमारे पेट मे जलन, पेट दर्द और गैस जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। एसिडिटी के कारण (1) भोजन मे अत्यधिक अंतराल यदि आप दिनभर मे दो बार खाना खाते हैं तो पहले और दूसरे खाने के बीच मे बहुत लंबा अंतराल होने से आपको एसिडिटी हो सकती है। (2) आंतों मे बैक्टीरिया का असंतुलन यदि आपकी आंतों मे बैक्टीरिया का असंतुलन हो गया है तो आपको एसिडिटी की समस्या हो सकती है। (3) पेट मे एसिड का कम बनना पेट मे एसिड कम बनने से भी एसिडिटी की समस्या हो  ज