सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वजन घटाने के घरेलू नुस्खे- मोटापा कम करने के रामबाण उपाय-weight loss tips


आजकल लोग मोटापे से बहुत परेशान है। लोग अपने शरीर के वजन को संतुलित बनाए रखने के लिए क्या-क्या नहीं करते हैं फिर भी उन्हें मोटापे जैसी समस्या परेशान करती रहती है। यदि आप भी अपने मोटापे को कम करके संतुलित वजन चाहते हैं तो आपको प्रकृति द्वारा प्रदत्त उपचारों को प्रयोग में लाना चाहिए आपको अपने आहार तथा उत्पादों में वह साधन प्रयोग करने चाहिए जो आपके मोटापे को कम करते हैं। तो चलिए आज हम इस लेख के माध्यम से वजन घटाने के घरेलू उपायों (home remedies for weight loss) के बारे में चर्चा करते हैं।

वजन घटाने के घरेलू उपाय- अश्वगंधा की पत्तियों की गोली खाना:

  मोटापा दूर करने मे अश्वगंधा काफी कारगर होता हैै। इसके पत्तों का यह नुस्खा रोज अपनाएं, खाने सेेेे कुछ देर पहले अश्वगंधा के पत्ते की गोली बनाएं और इस गोली को निगल ले। यह घर पर मोटापा घटाने के सरल उपायों में से एक है।

मोटापा कम करने का सरल उपाय- शहद के साथ नींबू पीना:

नींबू और शहद हमें आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं, जिसके द्वारा हम अपने वजन को आसानी से कय कर सकते हैं। इसके लिए रोज सुबह नींबूू और शहद को गुनगुने पानी मैं डालकर पिए। इससे शरीर का अतिरिक्त फैट कम हो जाता है।

मोटापा घटाने का घरेलू उपाय- सौंफ का पानी पीना:

आधा चम्मच सौंफ को एक कप खौलते पानी मेे डाल दें।10 मिनट तक इसे ढक कर रखें,ठंडा होने पर इस पानी को पी ले ,ऐसा 3 माह तक करने पर वजन तेजी से कम होने लगता है। इस उपाय मे थोड़ा समय जरूर लगता है परंतु इसका प्रभाव शत- प्रतिशत दिखेगा।

वजन घटाने का घरेलू नुस्खा- गुग्गुल की गोंद को पानी के साथ पीना:

 गुग्गुल गोंद को दिन मे दो बार पानी मेे घोलकर या हल्का गुनगुुनाकर पीने सेे वजन कम करने मे मदद मिलती है।इसके उपयोग से आपका वजन तेेजी से कम होगा  क्योंकि यह वजन घटाने के अद्भुत उपाय मे से एक है।

मोटापा दूर करने का सरल तरीका- हरड़ और बहेड़ा का चूर्ण:

हरड़ और बहेड़ा का चूूर्ण बना लेें।एक चम्मच चूर्ण 50 ग्राम परवल के जूूूस(1 गिलास) के साथ मिलाकर रोज लें, वजन तेजी सेे कम होगा।इस उपाय को रोज करने मोटापा जल्द ही खत्म हो जाता है।

वजन घटाने का सरल उपाय- पुदीने की चटनी तथा चाय पीना:

 पुदीने की ताजी हरी पत्तियों की चटनी बनाकर चपाती के साथ खाएंं। पुदीने वाली चाय पीने से भी वजन नियंत्रित रहता है इस उपाय को करने से मोटापाा बढ़ नहीं पाता जिससे हमारा वजन संतुलित रहता है।
चाय
चाय

मोटापे को दूर करने के उपाय-सौंठ, दालचीनी और कालीमिर्च का चूर्ण:

 सौंठ, दालचीनी की छाल और काली मिर्च(3-3ग्राम) पीसकर चूर्ण बना लें। सुबह खाली पेट और रात को सोने से पहले इस चूर्ण को पानी के साथ में ले इससे मोटापा कम होने लगता है। इस नुुस्खे की मदद से आप जल्द ही अपने वजन को कम कर सकते हैं क्योंकि यह उपाय वजन घटाने के सरल तरीकों मे से एक है।

मोटापा दूर करने का जबरदस्त उपाय-पीपल का बारीक चूर्ण:

छोटी पीपल का बारीक चूर्ण पीसकर उसे कपड़े से छान लें। यह चूर्ण 3 ग्राम रोजाना सुबह के समय छाछ के साथ लें। इस नुस्खे से बाहर निकला हुआ पेट अंदर होने लगता है। यह उपाय पेट की चर्बी को कम करता है।

वजन घटाने का रामबाण उपाय- आंवले व हल्दी का चूर्ण:

यदि आपकी कमर बहुत मोटी और पेट बाहर की ओर आ रहा है तो आपको यह नुस्खा जरूर अपनाना चाहिए। इस नुस्खे मे आंवले व हल्दी को बराबर मात्रा मे पीसकर चूर्ण बना लें और इस चूर्ण को छाछ के साथ लें। इस नुस्खे की मदद से आपकी कमर एकदम पतली हो जाएगी।
आंवले और हल्दी का चूर्ण

वजन नियंत्रित करने का उपाय- लटजीरा तथा चिरचिटा के बीजों का चूर्ण-

लटजीरा तथा चिरचिटा के बीजों को एकत्रित कर ले तथा किसी कच्चे मिट्टी के बर्तन में हल्की आंच पर इन बीजों को भून लें और इन्हें पीस लें। इस चूर्ण को दिन में दो बार एक-एक चम्मच फाँँक कर खाएं। इस उपाय से वजन नियंत्रण में बहुत फायदा होगा।

मोटापे को रोकने का घरेलू उपाय-मूली का रस और शहद का सेवन:

इस नुस्खे को एक महीने तक अपनाने के बाद आपको आपके वजन मे कमी प्रतीत होगी। इस उपाय मे दो बडे़ चम्मच मूली के रस को शहद मे मिलाकर बराबर मात्रा मे पानी के साथ पी जाएं।यह नुस्खा  जल्दी मोटापा करने वाले उपायों मे से एक है।
मूली


मोटापे को रोकने का रामबाण उपाय- मालती की जड़ और शहद खाना:

शहद और मालती की जड़

इस उपाय में यदि किसी भी मां को प्रसव के बाद मोटापा होता है तो यह नुस्खा इस समस्या के लिए बहुत ही कारगर है। इस नुस्खे में मालती की जड़ को पीसकर शहद में मिलाकर खाएं। इसे खाने पर मोटापे में अति शीघ्र फायदा होता है।


ध्यान रखने योग्य बातें:-

(1) रोटी केे लिए गेहूं,सोयाबीन तथा चने के मिश्रित आटे का उपयोग करें।

(2) भोजन मे ज्यादा रेशे वाले पदार्थ शामिल करें। हरी सब्जियों और फलों में अधिक रेशे होते हैं। यह शरीर को स्वस्थ बनाए रखते हैं।

(3) भूख लगने पर ही खाना खाएंं और एकदम भरपेट भोजन न करें। प्रतिदिन पानी अधिक पिएं लेकिन खाना खाते समय बीच-बीच में अधिक पानी न पिएं।

(4) सुबह-शाम खाना खाने के बाद कुछ देर वज्रासन पर जरूर बैठे इससे आपकी पाचन क्रिया व्यवस्थित होगी और पेट संबंधित बीमारियांं भी दूर होंगी।

(5) मोटापे सेे बचने के लिए दूध से निर्मित पदार्थ का सेवन कम कर देना चाहिए। यदि संभव हो सके तो अधिक वसा वाली चीजें एकदम बंद कर दे।

(6) पुदीने का रस एक चम्मच और दो चम्मच शहद एक साथ मिलाएं और इसका सेवन नियमित रूप से करते रहे।

(7) हर रोज फल और सब्जियों का सेवन अवश्य करें।

(8) ज्यादा कार्बोहाइड्रेट वाली चीजों का सेवन न करें।शक्कर, आलू और चावल में अधिक कार्बोहाइड्रेट होता है और ये चर्बी बढ़ाते हैं। अतः इनसे पूरी तरह परहेज करें।

(9) सब्जियों और फलो में कैलोरी कम होती हैै, इसलिए इन्हें अधिक मात्रा में लेना चाहिए। केला और चीकू ना खाएं इससे मोटापा बढ़ता है।

(10) रोज खाने से पहले गाजर खाएं। खाने से पहले गाजर खाने से भूख कम हो जाती है। आधुनिक विज्ञान भी गाजर को मोटापा कम करने में कारगर मानता है।


कुछ आदतें जिन्हें अपनाकर वजन कम कर सकते हैं-


जब वजन कम करने की बात की जाती है तो ज्यादातर लोगों को लगता है कि वजन कम करने के लिए जिम जाना पड़ेगा, भारी वजन उठाना होगा, खाना कम खाना होगा। यह सब करने के बाद वजन कम हो गया तो ठीक नही तो फिर से कोई तिकड़म करना पडे़गा। यदि आप भी ऐसा ही सोंचते हैं तो आप गलत हैं क्योंकि हम आपको कुछ ऐसी आदतें बताएंगे जिन्हें आप बिना कोई मेहनत किए अपना वजन नियंत्रित कर सकते हैं।



(1) पहली आदत यह है कि आप अपने खाने को अच्छी तरह चबाकर खाना चाहिए। हम आपसे यह नही कह रहे कि आप खाना कम खाइये परन्तु यह जरूर कहते हैं कि आप खाने को जितना ज्यादा चबाकर खा सकें उतना ज्यादा चबाकर खाएं। इससे फायदा ये होता हैै कि खाना पचता बहुत जल्दी है और आप खाना भी कम खाते हैैं जिससे वजन नियंत्रित होता हैै।

(2) आप जब खाना खा रहें हो तो आप सिर्फ खाने पर ही ध्यान दें, बहुत से ऐसे लोग होते हैैं जो खाना खाते समय टीवी देेखते हैं या मोबाइल चलाते हैं। इससे आपका वजन बढ़ सकता है क्योंकि आप खाना चबाते कम और निगलते ज्यादा हैं।इससे खाने की मात्रा ज्यादा हो जाती है।

(3) आपको अपने दिन की शुरुआत दो गिलास गुनगुने पानी से करनी चाहिए और कम से कम 2 लीटर पानी पूरे दिन में जरूर पीना चाहिए तथा रात को सोने से पहले भी दो ग्लास पानी जरूर पिएं। इससे आपके शरीर का मेटाबॉलिक रेट बहुत अच्छा रहता है और पाचन शक्ति बढ़िया हो जाती है जोकि वजन नियंत्रित करने का एक उपाय है।

(4)  हो सके तो शक्कर या मिठाई कम खाएं या बंद ही कर दे क्योंकि शक्कर में जो कैलोरी होती है वो आपको नुकसान कर सकती है।आप चाय या काफी शुगर फ्री प्रयोग करें तो ज्यादा अच्छा रहेगा।

(5) शारिरिक संतुलन का कोई विकल्प नही होता है और इसीलिए फिट रहने के लिए थोडी़ शारीरिक कसरत कर सकते हैं। या काम आप दोपहर या शाम को भी कर सकते हैं लेकिन सुबह सुबह ताजी हवा में करने से दिमाग और शरीर दोनों ही सक्रिय हो जाते हैं। आप सुबह-सुबह टहलने सकते हैं इससे आपकी कैलोरी बर्न होती है जिससे वजन नियंत्रण में काफी फायदा होता है।

(6) हम आपसे यह नहीं कह रहे कि आप डाइट करिए लेकिन आपको सही टाइम पर सही ब्रेकफास्ट करना चाहिए। इसमें आपको ज्यादा सेे ज्यादा प्रोटीन और फाइबर लेना है प्रोटीन से मसल्स बनती है और फाइबर से आपका पेट जल्दी भर जाता हैै और देर तक भरा रहता है। इस कारण आपका मन बार-बार खाने का नहीं करता है और वजन नियंत्रण में मदद मिलती है।

इस लेख के माध्यम से हमने वजन घटाने के उपायों के बारेे मे चर्चा की। मुझे आशा है कि आपको लेख पसंद आया होगा। आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी ये बताने के लिए नीचे कमेन्ट जरूर लिखें जिससे मुझेे और ढेर सारी पोस्ट लिखनेे का उत्साह मिले और मै अधिक से अधिक जानकारी आपके लिए ला सकूूँ।
धन्यवाद।।।।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गिलोय के औषधीय फायदे- लाभ जानकर हो जाएंगे हैरान।

आजकल अधिकतर सुनने में आ रहा है कि बुखार से छुटकारा पाने के लिए गिलोय का काठा पिलाएँ। आखिर गिलोय कौन सा पौधा है, कहाँँ पाया जाता है, किन किन रोगों में कारगर होता है इसका वर्णन इस लेख के माध्यम से करने का प्रयास किया जा रहा है
गिलोय के अन्य नाम:-                                  गिलोय को गुडूच, अमृतगिलोय , गुडुची आदि नामों से भी जाना जाता है इसे मराठी में गलों कहते हैं। इसका वानस्पतिक नाम टीनोस्पोरा कोर्डीफोलिया तथा यह मनीस्प्रमेसी कुल के अंतर्गत आते है। गिलोय को दिव्य औषधि माना जाता है। गिलोय का प्राकृतिक आवास:-                                                  गिलोय की पत्तियां हृदय के आकार की होती है तथा देखने में पान के पत्ते की तरह लगती है। इसका पौधा लता के रूप में होता है जो कि भारत, म्यामार व श्रीलंका में भरपूर मात्रा में जंगली रूप में उगता हुआ देखा जा सकता है। इसकी पत्तियां 10 से 20 सेंटीमीटर लंबी तथा 8 से 15 सेंटीमीटर चौड़ी होती है। गिलोय की लताएं जंगलों पहाड़ों खेतों की मेड़ों चट्टानों आदि स्थानों पर पाई जाती है। इसकी लताएं वृद्धि के लिए दूसरे वृक्षों को अपना आधार बनाती है।ये …

Hair fall tips: बालों का झड़ना कैसे रोकें। hair fall causes, symptoms and hair fall home remedies

दोस्तों ज्यादातर लोगों में बालों का झड़ना, डैंड्रफ, बालों का सूखापन, पतलापन और वक्त से पहले बालों का सफेद होना बहुत ही ज्यादा आम समस्या है क्योंकि जब भी बालों से जुड़ी हुई कोई भी छोटी बड़ी समस्या होती है तो लोग अक्सर ऐसी चीजों का इस्तेमाल करते हैं जिसे अपने बालों में लगाकर अपनी इस प्रॉब्लम से छुटकारा पा जाएं। लेकिन ऐसा सोचना बिल्कुल गलत है क्योंकि बालों का झड़ना या गिरना एक ऐसी प्रॉब्लम है जिसे बालों में लगाने वाली चीजों का यूज करके सही नहीं किया जा सकता बल्कि इसके साथ-साथ खानपान और अपनी डेली लाइफ में की जाने वाली आदतों में सुधार करना बहुत जरूरी होता है। हम कई ऐसी गलतियां करते हैं जिसके कारण हमारे बाल झड़ने की समस्या उत्पन्न हो जाती है तो आइए जानते हैं वह कौन सी गलतियां या कारण है जिनसे हेयर फॉल होता है-

हेयर फॉल के कारण: hair fall reasons in hindi:- (1) सुबह उठकर नहाना:- सुबह उठकर नहाने में सबसे ज्यादा उपयोग पानी का किया जाता है। यहां समस्या यह है कि जितना ख्याल हम अपने पीने का पानी का रखते हैं उतना ख्याल हम अपने नहाने के पानी का कभी नहीं रखते। यदि हमारे नहाने का पानी ही ठीक ना हो तो…

डायबिटीज से बचने के उपाय। टाइप -1, टाइप-2 मधुमेह के लक्षण, कारण व छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे

वजन घटाने के घरेलू नुस्खे। 15 दिन में पाएं मनचाहा वजनडायबिटीज के मरीज लगातार बढ़ते जा रहे हैं। प्रत्येक दिन इसके मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। कुछ ताजा आंकड़ों के अनुसार जिस तरह डायबिटीज के मरीजों की संख्या बढ़ रही है उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि 2025 में इसके मरीजों की संख्या लगभग 13 करोड़ के आसपास हो जाएगी। आखिर क्या वजह है कि डायबिटीज से लोग प्रभावित हो रहे हैं? डायबिटीज क्या है? डायबिटीज के लक्षण क्या है? डायबिटीज से कैसे बचा जा सकता है?डायबिटीज से बचने के घरेलू उपाय ? इन सब के बारेे में हम अपने इस लेख में चर्चा करेंगे तो आइए शुरू करते हैं -

क्या है डायबिटीज:-                                 डायबिटीज एक अवस्था है जिसमें इंसुलिन, जो हमारे शरीर में शुगर कंट्रोल करता है। यदि यह इंसुलिन हमारे शरीर में 50% से कम बनता है तो व्यक्ति की शुगर सामान्य से ऊपर जाने लगती है और इसे ही डायबिटीज कहते हैं। डॉक्टर इसे डायबिटीज मेलाटाइज कहते हैं। इसे मधुमेह और शुगर के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसी बीमारी है जो एक बार होने पर जीवन भर साथ निभाती है लेकिन अगर मधुमेह के शुरुआती लक्षणों की …