सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गुर्दे की पथरी क्या है? लक्षण, कारण व पथरी को जड़ से खत्म करने के घरेलू उपाय


किडनी स्टोन
किडनी
शरीर में पथरी होना काफी सामान्य बात है और किडनी में पथरी होना दूसरी सबसे आम समस्या है। जब पथरी बन जाती है तो यह धीरे-धीरे बड़ी होने लगती है और पेशाब के रास्ते को रोक देती है जिससे हमारे पेट में काफी असहनीय दर्द होता है तो आज हम अपने इस लेख में पथरी क्या है? इसके लक्षण कारण और इसे जड़ से खत्म करने के घरेलू उपाय क्या क्या है? के बारे मे चर्चा करेंगे तो चलिए शुरू करतेे हैं-

क्या है गुर्दे की पथरी:-

गुर्दे की पथरी एक रोग है जिससे किडनी के अंदर छोटे छोटे पत्थर जैसी कठोरता बन जाती है जिन्हें पथरी या स्टोन कहते हैं। आमतौर पर यह पथरियाँँ मूत्र केेे रास्ते बाहर निकल जाती है परंतु यह पथरी अगर बड़ी हो जाए तो इससे पेट और दूसरे अंगों के आसपास  असहनीय दर्द होता है।

पथरी के लक्षण क्या क्या हैं?

(1) पथरी की समस्या से पीठ या पेट के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है। यह दर्द थोड़ी थोड़ी देर पर या घंटों तक बना रह सकता है।
(2) दर्द के साथ जी मिचलाना और उल्टी की शिकायत होना भी पथरी का लक्षण है।
(3) यदि मूूत्र प्रणाली केे किसी भाग में इंफेक्शन है तो इसके लक्षणों में बुखार, कपकपी, पसीना आना, मूत्र का रंग बदलना, पेशाब आने में दर्द होना, पेशाब में रक्त आना आदि लक्षण हो सकते हैं।
(4) यदि मूूत्र का रंंग गुलाबी लाल या भूरे रंग का आता है तो आपको पथरी होने की संभावना हो सकती है।

पथरी के कारण क्या क्या हैं?

(1) पानी का इस्तेमाल बहुत कम करना गुर्दे की पथरी होने का एक प्रमुख कारण है।
(2) खाने मेे बहुत ज्यादा एनिमल प्रोटीन का प्रयोग करने से पथरी हो सकती है।
(3) कैंसर या किडनी की बीमारियां होने से पथरी होने की संभावना बढ़ जाती है।
(4) विटामिन 'सी' या कैल्शियम वाली दवाओं का अधिक सेवन करने से पथरी हो जाती है।

गुर्दे की पथरी को जड़ से खत्म करने के घरेलू उपाय:-


किडनी स्टोन के उपाय मे करें तुलसी का उपयोग:- 

तुलसी की चाय पीने से गुर्दे की पथरी से निजात मिलता है। तुलसी का रस लेने से पथरी मूत्र मार्ग से निकल जाती है।यदि तुलसी के पत्तों के रस के साथ शहद लें तो कम से कम एक महीने में गुर्दे की पथरी से छुटकारा मिल सकता है। तुलसी के कुछ ताजे पत्ते रोज चबाने से भी बहुत फायदा होता है।

गुर्दे की पथरी से बचने का उपाय करें प्याज से:- 

प्याज मे स्टोन नाशक तत्व उपस्थित होते हैं जिनका प्रयोग करके गुर्दे की पथरी से निजात पाया जा सकता है।इसके लिए लगभग 70 ग्राम प्याज को पीसकर उसका रस निकाल लें। इस रस को सुबह खाली पेट नियमित रूप से सेवन करने पर पथरी छोटे छोटे टुकड़ों मे टूटकर निकल जाती है।

गुर्दे की पथरी का उपाय है अजवाइन:-

अजवाइन किडनी स्टोन के लिए टानिक के रुप मे काम करती है। किडनी मे पथरी के बनने को रोकने के लिए अजवाइन का प्रयोग मसाले के रूप मे या चाय मे नियमित रुप से किया जाता है।

गुर्दे की पथरी निकालने का तरीका है जैतून और नींबू:- 

जैतून के तेल के साथ नींबू के रस को मिलाकर सेवन करने से गुर्दे की पथरी मे बहुत लाभ होता है। दर्द होने पर 60 मिली नींबू के रस मे उतनी ही मात्रा में जैतून का तेल मिलाकर सेवन कर लेने से इसके दर्द से भी आराम मिलता है।

किडनी की पथरी का उपाय है बथुए का साग:- 

गुर्दे की पथरी को बाहर निकालने के लिए बथुए के साग को काफी कारगर माना जाता है। इसके लिए आधा किलो बथुए के साग को उबालकर छान लें। अब इस छाने हुए पानी में जरा सी काली मिर्च, जीरा और हल्का सा सेंधा नमक मिलाकर दिन मे चार बार पिएं। इससे गुर्दे की पथरी मे बहुत फायदा होता है।

गुर्दे की पथरी दूर करने का उपाय करें अंगूर से:- 

गुर्दे की पथरी से छुटकारा पाने मे अंगूर बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसको खाने से मूत्र बार बार आता है क्योंकि इसमें पोटैशियम और पानी भरपूर मात्रा मे होता है। अंगूर मे अलबूमीन और सोडियम क्लोराइड बहुत कम मात्रा मे पाए जाते हैं जिससे इन्हें गुर्दे की पथरी के उपचार के लिए अच्छा माना जाता है।

गुर्दे की पथरी के लिए घरेलू उपाय है केला:- 

स्टोन की समस्या से निपटने के लिए केले का सेवन करना चाहिए। इसमें विटामिन B6 होता है। विटामिन B6 आक्जलेट क्रिस्टल को बनने से रोकता है और तोड़ता है। इसके अतिरिक्त विटामिन B6 विटामिन B के अन्य विटामिन के साथ सेवन करना गुर्दे की पथरी के इलाज मे काफी मददगार होता है। एक शोध के मुताबिक विटामिन B की 100- 150 mg दैनिक खुराक गुर्दे की पथरी के उपचार मे बहुत फायदेमंद है।

किडनी स्टोन से छुटकारा दिलाता है करेला:- 

करेला बहुत कड़वा होने के कारण लोग इसे कम पसंद करते हैं लेकिन किडनी स्टोन मरीजों के लिए यह रामबाण की तरह है।करेले में मैग्नीशियम और फास्फोरस होता है जो पथरी बनने से रोकता है। इसलिए गुर्दे की पथरी के रामबाण इलाज के लिए करेले का सेवन करना चाहिए।

किडनी की पथरी निकालें मिश्री,सौंफ और सूखा धनिया से:-

मिश्री,सौंफ और सूखा धनिया को 50-50 ग्राम लेकर डेढ़ लीटर पानी में रात को भिगो दें।अगली शाम को इसे पानी से निकालकर पीस लें और पानी में मिलाकर एक घोल तैयार कर लें।इस घोल को पिएंं, इससे पथरी निकल जाएगी।

किडनी स्टोन के घरेलू नुस्खे मे करें अनार का इस्तेमाल:-

अनार का रस गुर्दे की पथरी के लिए बहुत ही असरदार और सरल उपाय है। अनार के कई लाभों के अतिरिक्त इसके बीज और रस में खट्टे फल और कसैले गुण के कारण इसे किडनी स्टोन के रामबाण उपाय के रूप में माना जाता है।

पथरी निकालने के लिए करें आंवले का प्रयोग:-

आंवले का प्रयोग भी पथरी मे बहुत फायदा करता है। इसके लिए आंवले का चूर्ण मूली के साथ खाने से मूत्राशय की पथरी निकल जाती है।


जीरा और चीनी से करें गुर्दे की पथरी खत्म:-

इसके लिए जीरा और चीनी को समान मात्रा मे ले लेना है और दोनों को पीसकर एक एक चम्मच ठंडे पानी से प्रतिदिन तीन बार लेने से बहुत फायदा होता है और पथरी निकल जाती है।

सहजन और आम के पत्तों से करें पथरी की छुट्टी:-

सहजन की सब्जी खाने से गुर्दे की पथरी टूटकर निकल जाती है। इसके अतिरिक्त आम के पत्तों को छांव में सुखाकर बहुत बारीक पीस लें और लगभग 8 से 10 ग्राम रोज पानी के साथ लें। इससे पथरी में फायदा होगा।

जामुन से होगा पथरी मे फायदा:-

पका हुआ जामुन  पथरी से निजात दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए पथरी होने पर जामुन खूब खाना चाहिए।

बड़ी इलायची और खरबूजे के बीज से करें किडनी स्टोन खत्म:-

इसके लिए 2-15 दाने बड़ी इलायची, एक चम्मच खरबूजे के बीज की गिरी और दो चम्मच मिश्री एक कप पानी में पीसकर मिलाकर सुबह-शाम दो बार पीने से पथरी निकल जाती है।

भिंडी से करें गुर्दे की पथरी का इलाज:-

तीन हल्की कच्ची भिंडी को पतली-पतली लंबी काट लें। काँच के बर्तन मे 2 लीटर पानी में कटी हुई भिंडी डालकर रख दें। सुबह भिंडी को उसी पानी से निचोड़ कर भिंडी को निकाल ले और यह सारा पानी 2 घंटे के अंदर पी लें। इससे किडनी की पथरी से जल्द छुटकारा मिल सकता है।


तो दोस्तों हमने इस पोस्ट में गुर्दे की पथरी क्या है? इसके लक्षण,कारण और इसके घरेलू उपाय क्या -क्या हैं? हमने इसका विस्तार से अध्ययन किया। मुझे आशा है की पोस्ट आप लोगों को पसंद आई होगी। यदि मेरी पोस्ट से आपको मदद मिली तो आप अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स में अवश्य दें।
धन्यवाद।।।



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गिलोय के औषधीय फायदे- लाभ जानकर हो जाएंगे हैरान।

आजकल अधिकतर सुनने में आ रहा है कि बुखार से छुटकारा पाने के लिए गिलोय का काठा पिलाएँ। आखिर गिलोय कौन सा पौधा है, कहाँँ पाया जाता है, किन किन रोगों में कारगर होता है इसका वर्णन इस लेख के माध्यम से करने का प्रयास किया जा रहा है
गिलोय के अन्य नाम:-                                  गिलोय को गुडूच, अमृतगिलोय , गुडुची आदि नामों से भी जाना जाता है इसे मराठी में गलों कहते हैं। इसका वानस्पतिक नाम टीनोस्पोरा कोर्डीफोलिया तथा यह मनीस्प्रमेसी कुल के अंतर्गत आते है। गिलोय को दिव्य औषधि माना जाता है। गिलोय का प्राकृतिक आवास:-                                                  गिलोय की पत्तियां हृदय के आकार की होती है तथा देखने में पान के पत्ते की तरह लगती है। इसका पौधा लता के रूप में होता है जो कि भारत, म्यामार व श्रीलंका में भरपूर मात्रा में जंगली रूप में उगता हुआ देखा जा सकता है। इसकी पत्तियां 10 से 20 सेंटीमीटर लंबी तथा 8 से 15 सेंटीमीटर चौड़ी होती है। गिलोय की लताएं जंगलों पहाड़ों खेतों की मेड़ों चट्टानों आदि स्थानों पर पाई जाती है। इसकी लताएं वृद्धि के लिए दूसरे वृक्षों को अपना आधार बनाती है।ये …

Hair fall tips: बालों का झड़ना कैसे रोकें। hair fall causes, symptoms and hair fall home remedies

दोस्तों ज्यादातर लोगों में बालों का झड़ना, डैंड्रफ, बालों का सूखापन, पतलापन और वक्त से पहले बालों का सफेद होना बहुत ही ज्यादा आम समस्या है क्योंकि जब भी बालों से जुड़ी हुई कोई भी छोटी बड़ी समस्या होती है तो लोग अक्सर ऐसी चीजों का इस्तेमाल करते हैं जिसे अपने बालों में लगाकर अपनी इस प्रॉब्लम से छुटकारा पा जाएं। लेकिन ऐसा सोचना बिल्कुल गलत है क्योंकि बालों का झड़ना या गिरना एक ऐसी प्रॉब्लम है जिसे बालों में लगाने वाली चीजों का यूज करके सही नहीं किया जा सकता बल्कि इसके साथ-साथ खानपान और अपनी डेली लाइफ में की जाने वाली आदतों में सुधार करना बहुत जरूरी होता है। हम कई ऐसी गलतियां करते हैं जिसके कारण हमारे बाल झड़ने की समस्या उत्पन्न हो जाती है तो आइए जानते हैं वह कौन सी गलतियां या कारण है जिनसे हेयर फॉल होता है-

हेयर फॉल के कारण: hair fall reasons in hindi:- (1) सुबह उठकर नहाना:- सुबह उठकर नहाने में सबसे ज्यादा उपयोग पानी का किया जाता है। यहां समस्या यह है कि जितना ख्याल हम अपने पीने का पानी का रखते हैं उतना ख्याल हम अपने नहाने के पानी का कभी नहीं रखते। यदि हमारे नहाने का पानी ही ठीक ना हो तो…

डायबिटीज से बचने के उपाय। टाइप -1, टाइप-2 मधुमेह के लक्षण, कारण व छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे

वजन घटाने के घरेलू नुस्खे। 15 दिन में पाएं मनचाहा वजनडायबिटीज के मरीज लगातार बढ़ते जा रहे हैं। प्रत्येक दिन इसके मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। कुछ ताजा आंकड़ों के अनुसार जिस तरह डायबिटीज के मरीजों की संख्या बढ़ रही है उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि 2025 में इसके मरीजों की संख्या लगभग 13 करोड़ के आसपास हो जाएगी। आखिर क्या वजह है कि डायबिटीज से लोग प्रभावित हो रहे हैं? डायबिटीज क्या है? डायबिटीज के लक्षण क्या है? डायबिटीज से कैसे बचा जा सकता है?डायबिटीज से बचने के घरेलू उपाय ? इन सब के बारेे में हम अपने इस लेख में चर्चा करेंगे तो आइए शुरू करते हैं -

क्या है डायबिटीज:-                                 डायबिटीज एक अवस्था है जिसमें इंसुलिन, जो हमारे शरीर में शुगर कंट्रोल करता है। यदि यह इंसुलिन हमारे शरीर में 50% से कम बनता है तो व्यक्ति की शुगर सामान्य से ऊपर जाने लगती है और इसे ही डायबिटीज कहते हैं। डॉक्टर इसे डायबिटीज मेलाटाइज कहते हैं। इसे मधुमेह और शुगर के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसी बीमारी है जो एक बार होने पर जीवन भर साथ निभाती है लेकिन अगर मधुमेह के शुरुआती लक्षणों की …