सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

याददाश्त कैसे बढ़ाएं - memory increasing tips in hindi

क्या आपकी याददाश्त कमजोर है? और आप जानना चाहते हैं कि याददाश्त कैसे बढ़ाएं तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में दिन भर हम अपनेेे कामों को पूरा करने के लिए ऑटोमेटिक मशीनों का भरपूर प्रयोग करते हैं जिससे हमारा काम बहुत जल्दी और सही तरीकेेेेे से हो जाता है। लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है की हम इसी तरह मशीनोंं के द्वारा अपने कार्योंं को करते रहें तो हमारे दिमाग की कुशाग्रता कमजोर हो जाएगी और इसका परिणाम होगा कि हम कोई भी बात आसानी से याद नही रख पाएंगे। तो आज हम इस लेख मे उन उपायों की चर्चा करेंगे जिसके द्वारा हम अपनी मेमोरी पावर को बढ़ा सकते हैं।
Memory increasing tips in hindi

जिज्ञासु बनें:-

देखिए दोस्तों कुछ लोग ऐसे होते हैं जो सिर्फ चीजों को एंजॉय करते हैं लेकिन कभी उत्सुक नही रहते हैं, दुनिया जहान मे कुछ भी हो रहा हो उनसे कोई मतलब नही तो आपको ऐसा नही बनना है क्योंकि आप यदि किसी चीज के लिए उत्सुक रहेंगे तो आप उसके बारे में जानना चाहेंगे। जैसे मान लिया कि बारिश हो रही है तो आपके अंदर जब उत्सुकता रहेगी तो आपके मन मे बहुत सारे प्रश्न उठेंगे जैसे बारिश क्यों होती है, बारिश कैसे होती है आदि। इस तरह से आप इन प्रश्नों के उत्तर ढूंढने का प्रयास करेंगे और आपके सोंचने और समझने की क्षमता का विकास होगा। ऐसा करने से हमारे मन मे डोपामेन रिलीज होता है जो ब्रेन को एक्टिव रखता है। इससे याददाश्त बढ़ने लग जाती है।

माइन्ड गेम्स खेलें:-

आजकल जो लोग खेलकूद और एक्सरसाइज आदि करते रहते हैं तो उनकी बॉडी काफी ज्यादा फिट रहती है उसी प्रकार यदि हम अपने दिमाग को फिट रखना चाहते हैं तो हमें माइंड गेम्स खेलने चाहिए। जैसे पजल्स, सोडूको, क्रॉसवर्ड जैसे गेम्स खेल सकते हैं जरूरी नहीं कि आप मेरे द्वारा बताए गए गेम ही खेलें आप अपने मन से जो आपको खेलने में मजा आता हो आप उस माइंड गेम को खेल सकते हैं। जब भी आप फ्री हो तो आप इन गेम्स को एक बार ट्राई कर सकते हैं क्योंकि गेम्स को खेलने के बाद आपका दिमाग पूरी तरह से रिफ्रेश हो जाएगा और आप अपने काम को और भी कुशलता के साथ कर पाएंगे यह एक अच्छा याददाश्त बढ़ाने का तरीका है।

कल्पना(imagine) करिए:-

हमारे महान वैज्ञानिक आइंस्टीन ने कहा है की कल्पना करना ज्ञान से ज्यादा महत्वपूर्ण है। जब हम किसी चीज की कल्पना करते हैं तो हमारे ब्रेन को कल्पना करने के लिए जिन चीजों की आवश्यकता होती है उन चीजों को मेमोरी से निकालता है और हमारी सोच के साथ उसे जोड़ता चला जाता है इसलिए कल्पना में हम बहुत सारी पास्ट और फ्यूचर की चीजों के बारे में सोचते हैं इससे हमारा दिमाग भी फ्रेश हो जाता है। इसीलिए इमैजिनेशन को ब्रेन बूस्टर एक्सरसाइज भी कहा जाता है।

याददाश्त बढ़ाने के घरेलू उपाय:-

(1) ग्रीन टी का करें इस्तेमाल:-

चाय पीने से दिमाग शांत और एकाग्र बनता है क्योंकि चाय मे पाया जाने वाला पॉलिफिनॉल दिमाग को संतुलित रखने में मदद करता है। यदि हम किसी एक काम को करते करते थक गए हो और बीच में थोड़ा सा ब्रेक लेकर चाय पी ले तो हमारा दिमाग फिर से रीएक्टिवेट हो जाता है हॉट हम अपना काम पूरी तरह मन लगा कर करते हैं। ग्रीन टी में बहुत सारे गुण पाए जाते हैं तथा इसमें प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जिनके नियमित सेवन से शरीर स्वस्थ रहता है। इसलिए दिन में दो-तीन कप ग्रीन टी पीने से याददाश्त बढ़ती है।

(2) करें कालीमिर्च का सेवन:-

काली मिर्च के अंदर पेपरिन नाम का एक रसायन पाया जाता है जो शरीर और ब्रेन की सेल्स को रिलेक्स करता है। अवसाद(डिप्रेशन) से ग्रसित व्यक्ति के लिए यह एक जादू की तरह कार्य करता है। इसलिए यदि आप अपने दिमाग को स्वस्थ बनाए रखना चाहते हैं तो आप अपने खाने में काली मिर्च का इस्तेमाल जरूर करें। यह नुस्खा आपके लिए काफी सुविधाजनक और असरदार है क्योंकि काली मिर्च आपको आसानी से उपलब्ध हो जाएगी।

(3) स्ट्रॉबेरी का करें प्रयोग:-

स्ट्रॉबेरी का नाम सुनते ही मुंह में पानी आ जाता है और इसकी खुशबू तो पूरी दुनिया में लोकप्रिय है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो हमारे ब्रेन के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं और हमारी मेमोरी को लॉस होने से बचाने के साथ-साथ मेमोरी इंक्रीजिंग का भी कार्य करते हैं। इसलिए याददाश्त बढ़ाने में स्ट्रॉबेरी का प्रयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप स्ट्रॉबेरी मिल्क शेक स्ट्रॉबेरी आइसक्रीम और भी स्ट्रॉबेरी से बनी चीजें इस्तेमाल कर सकते हैं।

(4) हल्दी का प्रयोग है असरदार:-

हल्दी दिमाग के लिए बहुत ही उपयोगी औषधि है। यह हमारे शरीर और ब्रेन की क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को रिपेयर करने में मदद करती है जिससे हमारा दिमाग स्वस्थ रहता है। हल्दी सिर्फ खाने के स्वाद और रंग को ही परिवर्तित नहीं करती है बल्कि यह ब्रेन पावर को बढ़ाने में भी मददगार होती हैं। इसके नियमित प्रयोग से अल्जाइमर नाम का रोग नहीं होता है।इसलिए हमें हल्दी की भरपूर मात्रा अपने खाने में लेनी चाहिए।

(5) जायफल है उपयोगी:-

जायफल अपने अजीज स्वाद और सुगंध के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। इसके साथ-साथ इसमें कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो दिमाग को स्वस्थ रखते हैं साथ ही मेमोरी पावर को स्ट्रांग करते हैं इससे याददाश्त बेहतर बनी रहती है। इसलिए आप अपने खाने में जायफल का प्रयोग कर सकते हैं।

(6) दही से करें याददाश्त ठीक:-

 दही में प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट, वसा, खनिज लवण, कैल्शियम और फास्फोरस पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं जो कि हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत उपयोगी होते हैं दही खाने से हमारे शरीर में लाभदायक जीवाणुओं की वृद्धि होती है और हानिकारक जीवाणुओं को दही नष्ट कर देता है। इसमें अमीनो अम्ल होता है जो दिमागी स्ट्रेस को कम करता है और मेमोरी पावर बढ़ाने में मदद करता है।

(7) अखरोट का करें खूब इस्तेमाल:-

आपने सुना होगा कि अखरोट खाने से पोषक तत्वों की कमी दूर हो जाती है और साथ ही स्वास्थ्य से संबंधित सभी समस्याएं भी खत्म हो जाती है, आपने सही सुना है। क्योंकि अखरोट में ओमेगा 3 , फैटी एसिड , प्रोटीन , फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो की मेमोरी बढ़ाने के लिए बहुत ज्यादा उपयोगी होते हैं इसलिए प्रतिदिन थोड़ा अखरोट जरूर खाएं।

(8) टमाटर का इस्तेमाल है प्रभावशाली:-

टमाटर खाने के जायके को बढ़ा देता है क्योंकि टमाटर में प्रोटीन, विटामिन, वसा आदि तत्व पाए जाते हैं साथ में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा भी कम होती है टमाटर में लाइकोपीन भी होता है शरीर की फ्री रेडिकल्स से रक्षा करता है। यह ब्रेन की कोशिकाओं को डैमेज होने से बचाता है इसलिए टमाटर के प्रयोग से आप याददाश्त को बढ़ा सकते हैं।

(9) अजवाइन है लाभकारी:-

अजवाइन की पत्तियों में पर्याप्त मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं इसलिए दिमाग के लिए का औषधि की तरह कार्य करता है तथा ओरोमा थेरेपी में भी इसका प्रयोग किया जाता है। यदि आप भी अपने दिमाग को चुस्त-दुरुस्त रखना चाहते हैं तो आप अजवाइन का सेवन जरूर करें।

(10) दालचीनी का प्रयोग है गुणकारी:-

दालचीनी बहुत सी समस्याओं जैसे बालों की समस्या, चेहरे पर पिंपल्स की समस्या आदि में काम आता है क्या दिमाग के लिए भी सर्वोत्तम है क्योंकि इसमें उपस्थित तत्वों से हमारी मेमोरी स्ट्रांग रहती है इसलिए दालचीनी के नियमित सेवन से याददाश्त बढ़ती है और दिमाग स्वस्थ रहता है।

(11) तुलसी है सर्वोत्तम:-

तुलसी एक विशेष प्रकार का गुणकारी पौधा है जिससे ना केवल बड़ी बड़ी बीमारियां ठीक हो जाती हैं बल्कि याददाश्त जैसी समस्या के लिए रामबाण की तरह कार्य करती है। इसलिए रोजाना तुलसी के दो से चार पत्ते खाने से बार-बार भूलने की बीमारी से निजात मिलती है और मेमोरी पावर स्ट्रांग हो जाती है।

तो दोस्तों हमने इस पोस्ट में जाना याददाश्त कैसे बढ़ाए।आशा है कि आपको पोस्ट पसंद आई होगी यदि आपको पोस्ट अच्छी लगी तो आप हमारा मनोबल बढ़ाते रहें।
धन्यवाद।।






टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गिलोय के औषधीय फायदे- लाभ जानकर हो जाएंगे हैरान।

आजकल अधिकतर सुनने में आ रहा है कि बुखार से छुटकारा पाने के लिए गिलोय का काठा पिलाएँ। आखिर गिलोय कौन सा पौधा है, कहाँँ पाया जाता है, किन किन रोगों में कारगर होता है इसका वर्णन इस लेख के माध्यम से करने का प्रयास किया जा रहा है
गिलोय के अन्य नाम:-                                  गिलोय को गुडूच, अमृतगिलोय , गुडुची आदि नामों से भी जाना जाता है इसे मराठी में गलों कहते हैं। इसका वानस्पतिक नाम टीनोस्पोरा कोर्डीफोलिया तथा यह मनीस्प्रमेसी कुल के अंतर्गत आते है। गिलोय को दिव्य औषधि माना जाता है। गिलोय का प्राकृतिक आवास:-                                                  गिलोय की पत्तियां हृदय के आकार की होती है तथा देखने में पान के पत्ते की तरह लगती है। इसका पौधा लता के रूप में होता है जो कि भारत, म्यामार व श्रीलंका में भरपूर मात्रा में जंगली रूप में उगता हुआ देखा जा सकता है। इसकी पत्तियां 10 से 20 सेंटीमीटर लंबी तथा 8 से 15 सेंटीमीटर चौड़ी होती है। गिलोय की लताएं जंगलों पहाड़ों खेतों की मेड़ों चट्टानों आदि स्थानों पर पाई जाती है। इसकी लताएं वृद्धि के लिए दूसरे वृक्षों को अपना आधार बनाती है।ये …

Hair fall tips: बालों का झड़ना कैसे रोकें। hair fall causes, symptoms and hair fall home remedies

दोस्तों ज्यादातर लोगों में बालों का झड़ना, डैंड्रफ, बालों का सूखापन, पतलापन और वक्त से पहले बालों का सफेद होना बहुत ही ज्यादा आम समस्या है क्योंकि जब भी बालों से जुड़ी हुई कोई भी छोटी बड़ी समस्या होती है तो लोग अक्सर ऐसी चीजों का इस्तेमाल करते हैं जिसे अपने बालों में लगाकर अपनी इस प्रॉब्लम से छुटकारा पा जाएं। लेकिन ऐसा सोचना बिल्कुल गलत है क्योंकि बालों का झड़ना या गिरना एक ऐसी प्रॉब्लम है जिसे बालों में लगाने वाली चीजों का यूज करके सही नहीं किया जा सकता बल्कि इसके साथ-साथ खानपान और अपनी डेली लाइफ में की जाने वाली आदतों में सुधार करना बहुत जरूरी होता है। हम कई ऐसी गलतियां करते हैं जिसके कारण हमारे बाल झड़ने की समस्या उत्पन्न हो जाती है तो आइए जानते हैं वह कौन सी गलतियां या कारण है जिनसे हेयर फॉल होता है-

हेयर फॉल के कारण: hair fall reasons in hindi:- (1) सुबह उठकर नहाना:- सुबह उठकर नहाने में सबसे ज्यादा उपयोग पानी का किया जाता है। यहां समस्या यह है कि जितना ख्याल हम अपने पीने का पानी का रखते हैं उतना ख्याल हम अपने नहाने के पानी का कभी नहीं रखते। यदि हमारे नहाने का पानी ही ठीक ना हो तो…

डायबिटीज से बचने के उपाय। टाइप -1, टाइप-2 मधुमेह के लक्षण, कारण व छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे

वजन घटाने के घरेलू नुस्खे। 15 दिन में पाएं मनचाहा वजनडायबिटीज के मरीज लगातार बढ़ते जा रहे हैं। प्रत्येक दिन इसके मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। कुछ ताजा आंकड़ों के अनुसार जिस तरह डायबिटीज के मरीजों की संख्या बढ़ रही है उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि 2025 में इसके मरीजों की संख्या लगभग 13 करोड़ के आसपास हो जाएगी। आखिर क्या वजह है कि डायबिटीज से लोग प्रभावित हो रहे हैं? डायबिटीज क्या है? डायबिटीज के लक्षण क्या है? डायबिटीज से कैसे बचा जा सकता है?डायबिटीज से बचने के घरेलू उपाय ? इन सब के बारेे में हम अपने इस लेख में चर्चा करेंगे तो आइए शुरू करते हैं -

क्या है डायबिटीज:-                                 डायबिटीज एक अवस्था है जिसमें इंसुलिन, जो हमारे शरीर में शुगर कंट्रोल करता है। यदि यह इंसुलिन हमारे शरीर में 50% से कम बनता है तो व्यक्ति की शुगर सामान्य से ऊपर जाने लगती है और इसे ही डायबिटीज कहते हैं। डॉक्टर इसे डायबिटीज मेलाटाइज कहते हैं। इसे मधुमेह और शुगर के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसी बीमारी है जो एक बार होने पर जीवन भर साथ निभाती है लेकिन अगर मधुमेह के शुरुआती लक्षणों की …