सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एनीमिया के लक्षण,कारण व इससे बचने के घरेलू उपाय। Anemia causes, symptoms and home remedies for anemia

दोस्तों बहुत सारे लोग जो अपनी खून की कमी के कारण एनीमिया के शिकार हो जाते है। इसमें ज्यादातर संख्या गर्भवती महिलाओं की है जो अपनी डाइट पर ध्यान नहीं देती है इसके कारण उनके शरीर में खून की कमी हो जाती है। दोस्तों आज हम बात करेंगे एनीमिया से बचने के घरेलू उपायों के बारे में-
एनीमिया से कैसे बचें

एनीमिया क्या होता है?

जब हमारे शरीर में लौह तत्व यानि कि आयरन की कमी होती है तो आयरन की कमी के कारण ही हीमोग्लोबिन में भी कमी आ जाती है जिसके कारण एनीमिया नामक बीमारी हो जाती है। 

आयरन हमारी बॉडी में लाल रुधिर कणिकाओं को बनाने का काम करता है और यह लाल रुधिर कणिकाएं हमारी बॉडी में हीमोग्लोबिन का निर्माण करती है जब बॉडी में आयरन की कमी हो जाती है तो हिमोग्लोबिन भी कम हो जाता है जिससे शरीर में ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में नहीं पहुंच पाती और ऑक्सीजन की भी कमी हो जाती है क्योंकि हीमोग्लोबिन फेफड़ों से ऑक्सीजन को लेकर ब्लड में पहुुँँचाता है। यही समस्या एनीमिया कहलाती है।

एनीमिया के कारण

एनीमिया कोई बीमारी नही है लेकिन यह कई बीमारियों का कारण बन सकती है। ज्यादातर यह जीवनशैली मे बदलाव और आहि सम्बन्धी आदतों के कारण होता है। यह बढ़ते बच्चों, स्तनपान कराने वाली महिलाओं, गर्भवती महिलाओं व बीमार व्यक्तियों में ज्यादा पाया जाता है। आश्चर्य की बात यह है कि भारत मे लगभग 80% महिलाएं इससे पीड़ित हैं।


एनीमिया के अन्य कारण

(1) पौष्टिक आहार में कमी

एनीमिया का सबसे प्रमुख कारण है। इसके अतिरिक्त आपकी डाइट में कम पौष्टिकता वाले पदार्थों का होना है। इसलिए अपने आहार में संतुलित भोजन को शामिल करे।

(2) किडनी कैंसर

यह भी एनीमिया का एक बहुत ही प्रमुख कारण है। क्योंकि किडनी कैंसर होने के कारण लाल रुधिर कणिकाओं का निर्माण नहीं हो पाता है जिससे व्यक्ति एनीमिया का शिकार हो जाता है।

(3) विटामिन व मिनरल्स की कमी

लाल रुधिर कणिकाओं के निर्माण के लिए कई प्रकार के विटामिन व मिनरल्स की आवश्यकता होती है। जल की कमी हो जाती है तो लाल रुधिर कणिकाओं का निर्माण भी कम होता है और हिमोग्लोबिन भी कम बनता है। जिसके कारण व्यक्ति एनीमिया का शिकार हो जाता है।

(4) कुपोषण

कुपोषण महिलाओं की एक आम समस्या है। यह समस्या गर्भवती महिलाओं मे ज्यादा होने के कारण सबसे ज्यादा यही लोग पीड़ित होते हैं।

(5) अत्यधिक रक्तस्राव होना

माहवारी के दिनों में अत्यधिक रक्तस्राव घाव से स्राव, कोलन कैंसर आदि से जब बहुत ज्यादा मात्रा में खून बह जाता है तो एनीमिया होने खतरा बढ़ जाता है।

(6) वायरल इंफेक्शन

वायरल इनफेक्शन हमारी बोन मैटो यानी कि अस्थि मज्जा बुरी तरह से प्रभावित होती है जिससे लाल रुधिर कणिकाओं का निर्माण बिल्कुल कम हो जाता है जिससे एनीमिया होने की संभावना ज्यादा हो जाती है। इस प्रकार का एनीमिया अप्लास्टिक एनीमिया कहलाता है।

(7) विटामिन बी-12 की कमी

विटामिन B12 की कमी के कारण भी एनीमिया हो जाता है।

एनीमिया के लक्षण

(1) आंखें पीली हो जाना
(2) चक्कर आना, कमजोरी या थकावट महसूस होना
(3) छाती में दर्द या सीने में जलन
(4) त्वचा या नाखूनों का पीला होना
(5) लेटने के बाद उठने पर अचानक से आंखों के सामने अंधेरा छा जाना
(6) सांस फूलना या सिर में दर्द
(7) हाथ पैरों का ठंडा होना
(8) हृदय की धड़कन तेज होना

इन लक्षणों के दिखने पर तुरंत अपने नजदीकी चिकित्सक से संपर्क करें।

एनीमिया के घरेलू उपाय

(1) पालक

पालक की सब्जी खाने से एनीमिया से बहुत जल्दी राहत मिलती है।प्रत्येक हरी सब्जी में पालक को जरूर शामिल करें। 
इसके अतिरिक्त आप पालक को सलाद के रुप में भी खा सकते हैं या फिर आप पालक को उबालकर सूप पी सकते हैं। इससे खून जल्दी बढ़ेगा और आप एनीमिया मुक्त हो जाएंगे।

(2) चुकंदर

चुकंदर जोकि आयरन से लबालब भरा होता है। इसलिए एनीमिया के मरीजों को चुकंदर जरूर खाना चाहिए। आप चुकंदर की सब्जी, सलाद और इसका रस निकालकर भी इसे आप अपनी खुराक मे शामिल कर सकते हैं। इससे बहुत ही जल्दी आप एनीमिया मुक्त हो जाएंगे।

(3) टमाटर

 टमाटर से तो सभी परिचित हैं। इसे सब्जी को स्वादिष्ट बनाने के साथ-साथ सलाद के रूप में भी खाया जाता है। इसके अतिरिक्त आप इसका जूस निकालकर या सूप बनाकर भी पी सकते हैं। इससे आपका एनीमिया बहुत जल्दी ही आप से दूरी बना लेगा।

(4) सोयाबीन

सोयाबीन जोगी प्रोटीन और आयरन का एक बहुत ही अच्छा स्रोत है। लगभग हर बॉडी बनाने वाला व्यक्ति सोयाबीन जरूर खाता है। क्योंकि इसमें आयरन की भरपूर मात्रा होती है इसलिए एनीमिया में भी काफी लाभदायक होता है।

(5) गुड़

गुड भी आरयन का एक अच्छा स्रोत है। एनीमिया से पीड़ित व्यक्ति को प्रतिदिन थोड़ा सा गुड़ जरूर खाना चाहिए। इसके अतिरिक्त आप खाना खाने के बाद थोड़ा सा गुड़ खा ले तो एनीमिया लाखों किलोमीटर आपसे दूर रहेगा।

(6) मेवा

मेवा में बहुत ही ज्यादा मात्रा में आयरन उपस्थित होता है। यदि आप मेवे का सेवन करते हैं तो आप एनीमिया से बच सकते हैं क्योंकि इसे खाने से आयरन के स्तर में तेजी से बढ़ोतरी होती है।

(7) सेब

सेब जो कि ठंडे प्रदेशों में काफी मात्रा में पाया जाता है। इस फल में आयरन की उपस्थिति प्रचुर मात्रा में होती है। इसका सेवन करने से एनीमिया जल्दी ही दूर हो जाता है। इसलिए सेब को जरूर खाना चाहिए।

(8) खजूर

खजूर भी सेब की तरह एक आयरन की अधिकता वाला फल है। इसलिए यदि कोई एनीमिया से पीड़ित है तो उसे खजूर जरूर खाना चाहिए।

(9) शहद

एनीमिया के मरीजों के लिए शहद बहुत लाभदायक होता है। इसके नियमित सेवन से खून की कमी दूर हो जाती है।

दोस्तों हमने इस लेख में जाना की एनीमिया से बचने के घरेलू उपाय क्या क्या है। मुझे आशा है कि यह लेख आपको पसंद आया होगा यदि आपको यह लेख पसंद आया तो अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स में लिखें।
धन्यवाद।।।।

और पढ़ें


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गिलोय के औषधीय फायदे- लाभ जानकर हो जाएंगे हैरान।

आजकल अधिकतर सुनने में आ रहा है कि बुखार से छुटकारा पाने के लिए गिलोय का काठा पिलाएँ। आखिर गिलोय कौन सा पौधा है, कहाँँ पाया जाता है, किन किन रोगों में कारगर होता है इसका वर्णन इस लेख के माध्यम से करने का प्रयास किया जा रहा है
गिलोय के अन्य नाम:-                                  गिलोय को गुडूच, अमृतगिलोय , गुडुची आदि नामों से भी जाना जाता है इसे मराठी में गलों कहते हैं। इसका वानस्पतिक नाम टीनोस्पोरा कोर्डीफोलिया तथा यह मनीस्प्रमेसी कुल के अंतर्गत आते है। गिलोय को दिव्य औषधि माना जाता है। गिलोय का प्राकृतिक आवास:-                                                  गिलोय की पत्तियां हृदय के आकार की होती है तथा देखने में पान के पत्ते की तरह लगती है। इसका पौधा लता के रूप में होता है जो कि भारत, म्यामार व श्रीलंका में भरपूर मात्रा में जंगली रूप में उगता हुआ देखा जा सकता है। इसकी पत्तियां 10 से 20 सेंटीमीटर लंबी तथा 8 से 15 सेंटीमीटर चौड़ी होती है। गिलोय की लताएं जंगलों पहाड़ों खेतों की मेड़ों चट्टानों आदि स्थानों पर पाई जाती है। इसकी लताएं वृद्धि के लिए दूसरे वृक्षों को अपना आधार बनाती है।ये …

Hair fall tips: बालों का झड़ना कैसे रोकें। hair fall causes, symptoms and hair fall home remedies

दोस्तों ज्यादातर लोगों में बालों का झड़ना, डैंड्रफ, बालों का सूखापन, पतलापन और वक्त से पहले बालों का सफेद होना बहुत ही ज्यादा आम समस्या है क्योंकि जब भी बालों से जुड़ी हुई कोई भी छोटी बड़ी समस्या होती है तो लोग अक्सर ऐसी चीजों का इस्तेमाल करते हैं जिसे अपने बालों में लगाकर अपनी इस प्रॉब्लम से छुटकारा पा जाएं। लेकिन ऐसा सोचना बिल्कुल गलत है क्योंकि बालों का झड़ना या गिरना एक ऐसी प्रॉब्लम है जिसे बालों में लगाने वाली चीजों का यूज करके सही नहीं किया जा सकता बल्कि इसके साथ-साथ खानपान और अपनी डेली लाइफ में की जाने वाली आदतों में सुधार करना बहुत जरूरी होता है। हम कई ऐसी गलतियां करते हैं जिसके कारण हमारे बाल झड़ने की समस्या उत्पन्न हो जाती है तो आइए जानते हैं वह कौन सी गलतियां या कारण है जिनसे हेयर फॉल होता है-

हेयर फॉल के कारण: hair fall reasons in hindi:- (1) सुबह उठकर नहाना:- सुबह उठकर नहाने में सबसे ज्यादा उपयोग पानी का किया जाता है। यहां समस्या यह है कि जितना ख्याल हम अपने पीने का पानी का रखते हैं उतना ख्याल हम अपने नहाने के पानी का कभी नहीं रखते। यदि हमारे नहाने का पानी ही ठीक ना हो तो…

डायबिटीज से बचने के उपाय। टाइप -1, टाइप-2 मधुमेह के लक्षण, कारण व छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे

वजन घटाने के घरेलू नुस्खे। 15 दिन में पाएं मनचाहा वजनडायबिटीज के मरीज लगातार बढ़ते जा रहे हैं। प्रत्येक दिन इसके मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। कुछ ताजा आंकड़ों के अनुसार जिस तरह डायबिटीज के मरीजों की संख्या बढ़ रही है उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि 2025 में इसके मरीजों की संख्या लगभग 13 करोड़ के आसपास हो जाएगी। आखिर क्या वजह है कि डायबिटीज से लोग प्रभावित हो रहे हैं? डायबिटीज क्या है? डायबिटीज के लक्षण क्या है? डायबिटीज से कैसे बचा जा सकता है?डायबिटीज से बचने के घरेलू उपाय ? इन सब के बारेे में हम अपने इस लेख में चर्चा करेंगे तो आइए शुरू करते हैं -

क्या है डायबिटीज:-                                 डायबिटीज एक अवस्था है जिसमें इंसुलिन, जो हमारे शरीर में शुगर कंट्रोल करता है। यदि यह इंसुलिन हमारे शरीर में 50% से कम बनता है तो व्यक्ति की शुगर सामान्य से ऊपर जाने लगती है और इसे ही डायबिटीज कहते हैं। डॉक्टर इसे डायबिटीज मेलाटाइज कहते हैं। इसे मधुमेह और शुगर के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसी बीमारी है जो एक बार होने पर जीवन भर साथ निभाती है लेकिन अगर मधुमेह के शुरुआती लक्षणों की …